Wed01102014

Last updateThu, 02 Oct 2014 3am

Uncategorised

भारत में सोने की मांग बढेगी : विश्व स्वर्ण परिषद

कोलकाता। पहली छमाही में कमजोरी के रुख के बावजूद विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) को पूरा भरोसा है कि 2014 में भारत में सोने की मांग और अधिक रहेगी। परिषद के निदेशक (आभूषण) विपिन शर्मा ने कहा कि इस साल की पहली छमाही चुनौतीपूर्ण रही। जनवरी से जून 2014 के पहली छमाही के दौरान आभूषणों की मांग पूर्व वर्ष की तुलना में 14 प्रतिशत कम रही। यह अल्पकालिक धारणा है। शर्मा ने कहा कि दीर्घकालिक स्तर पर बुनियाद मजबूत है। अब त्योहारी सीजन शुरू हो रहा है, शादी ब्याह का सीजन भी आ रहा है तो हमें मांग का आंकड़ा 850 टन से 950 टन के बीच रहने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि जहां तक दीर्घकालिक मांग का सवाल है, तो सालाना आधार पर हमें मजबूत धारणा दिखती है। विशेषकर अंतिम तिमाही को लेकर हम काफी सकारात्मक हैं। उन्होंने कहा कि शादी ब्याह के सीजन का बिक्री में बड़ा हिस्सा है क्योंकि सोने की कुल खपत में इसका योगदान 50 प्रतिशत रहता है। शर्मा ने कहा कि अल्पकालिक उतार-चढ़ाव आम बात है और यह आर्थिक कारणों के साथ साथ उपभोक्ताओं की धारणा पर निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि अल्पकालिक गिरावट नई नहीं है। यह मांग के साथ चलता है जो कि कभी गिरती है तो कभी चढ़ जाती है। पिछले साल अप्रैल मई में सोने की मांग में अप्रत्याशित उछाल देखने को मिला था, क्योंकि कीमतेंं नीचे आई थीं। इसलिए हम देखते रहते हैं कि अल्पकालिक धारणा आर्थिक कारण विशेष से जुड़ी रहती है। उन्होंने भारतीय स्वर्ण बाजार के भविष्य को लेकर खासी उम्मीद जताई। सोने चांदी में भी लौटी तेजी - नई दिल्ली विदेशी बाजारों में पीली धातु में तेजी लौटने और स्थानीय स्तर पर त्योहारी मांग आने से दिल्ली में सोना 590 रुपए चढ़कर एक पखवाड़े के अधिकतम स्तर 27550 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया जबकि चांदी 550 रुपए ऊपर 39900 रुपए प्रति किलोग्राम बोली गई।

Read more...

About

This tells you a bit about this blog and the person who writes it. 

When you are logged in you will be able to edit this page by clicking on the edit icon.