10-12-2018 08:14:pm
उत्तर पुस्तिका परीक्षक की राय का दस्तावेज, छात्र को इसकी प्रति देने से इंकार नहीं कर सकते विश्वविद्यालय: मप्र सूचना आयोग || माइन ब्लास्ट, दो जवान शहीद  || ब्रटेन के मंत्री ने दिया इस्तीफा || अफगानिस्तान में 10 आतंकवादी मारे  || ब्रह्मोस और एआरवी सहित 3000 करोड़ की सैन्य खरीद को मंजूरी  || असम में इंटरसिटी एक्स. के कोच में धमाका, 11 जख्मी  || कांग्रेस ने फिर मांगी स्ट्रॉन्ग रूम की डेढ़ घंटे की वीडियो रिकॉर्डिंग || चिदंबरम ने जीडीपी पर जश्न के लिए भाजपा का उड़ाया मजाक :  || एक माह में पेट्रोल-डीजल के दाम में 7 रुपए की कमी || भारत के लिए यह सीरीज जीतने का सुनहरा मौका : स्टीव || भारत ए की पारी 323 पर सिमटी, सिराज ने दो विकेट लिए  || जजों की नियुक्ति कॉलेजियम ही करेगा; सरकार की याचिका खारिज  || पंजाब के मंत्री बोले इस्तीफा दें सिद्धू  || राहुल ने कहा- कैसे हिंदू हैं मोदी; सुषमा ने कहा- दुविधा तो आपके धर्म पर है || प्रदर्शन में दिल्ली पहुंचे किसान ने आत्महत्या की || प्रियंका-निक जोनास बने जीवनसाथी || लोकपाल पर 30 जनवरी से अन्ना फिर मैदान में  || कबड्डी खिलाड़ी का करता था पीछा बात करने के लिए बना रहा था दबाव ||

भोपाल    विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड मतदान के बीच भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों का आत्मविश्वास बुलंदियों पर है। हर कोई अपनी पार्टी की सरकार बनने का दावा कर रहा है। दावा भी ऐसा कि दूसरे दल का सफाया हो जाए। ऐसे में बिखरे हुए तीसरे मोर्चे की तरफ किसी का ध्यान नहीं है। प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बसपा), समाजवादी पार्टी (सपा) और गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने इस बार चुनाव में न केवल अपनी ताकत दिखाई, बल्कि कई सीटों पर उनके प्रत्याशी सीधे मुकाबले में हैं। इन पार्टियों के अलावा सपाक्स और आम आदमी पार्टी ने भी अपनी शुरुआत की है। इनमें बसपा और सपा ने प्रदेश में सरकार विरोधी हवा बताते हुए अपनी सीटों की संख्या में इजाफा की उम्मीद जाहिर की है। विधानसभा निर्वाचन के शेड्यूल के मुताबिक मतगणना में 10 दिन का वक्त है। ऐसे में भाजपा और कांग्रेस नेताओं के रोजाना आ रहे बयानों में उनकी सरकार साफ बनने का दावा किया जा रहा है। इस बीच राजधानी से दूर के जिलों में अपने जमावट करने वाले दलों सपा और बसपा ने भी विधानसभा में अपनी अच्छी उपस्थिति का बात कही है।

2003 का इतिहास दोहराने की उम्मीद

बहुजन समाज पार्टी ने इस बार 227 सीटों पर चुनाव लड़ा। अनूपपुर में विलंब से निर्वाचन कार्यालय पहुंचने के कारण बसपा प्रत्याशी का नामांकन दाखिल नहीं हो सका जबकि दो प्रत्याशियों ने अपने नाम वापस ले लिए। पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने राजधानी समेत आठ स्थानों पर सभाएं की। शिवपुरी में उनकी सभा की भीड़ चर्चा में रही थी। पार्टी के प्रदेश प्रभारी और उप्र के पूर्व मंत्री रामअचल राजभर कहते हैं कि ‘इस बार पाटर्ी्र की सीटें दो अंकों में पहुंचने की पूरी उम्मीद है। यह संख्या 20 भी हो तो हैरान नहीं करना चाहिए। राजभर कहते हैं कि अधिक मतदान सरकार के प्रति लोगों की नाराजगी दर्शाता है। उनका दावा है किसी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलेगा,बिना समर्थन के सरकार नहीं बनेगी।’

25 सीटों पर निर्णायक भूमिका में नया दल

प्रमोशन में आरक्षण और एट्रोसिटी एक्ट को लेकर सपाक्स समाज ने दो महीने पहले जो माहौल बनाया था उससे लग रहा था कि सवर्ण समाज 15 विधानसभा के सदस्यों को चुनने में निर्णायक भूमिका में रहेगा। लेकिन राजनीतिक दल बनते-बनते सपाक्स की आंधी ‘छू मंतर’ हो गई। सपाक्स से जुडें एक सदस्य नाम नहीं छापने की शर्त पर कहते हैं कि अव्वल तो राजनीतिक पार्टी का दर्जा मिलने में मशक्कत करना पड़ी। चुनाव सपाक्स का जो माहौल बनाया था अधिकारी-कर्मचारियों ने बनाया था लेकिन आचार संहिता लगने के बाद वो खुले रूप में सामने नहीं आ सकते थे। सपाक्स के राष्ट्रीय संरक्षक हीरालाल त्रिवेदी मानते हैं कि सपाक्स निश्चित रूप से अपनी मौजूदगी दर्ज कराएगी। वे कहते हैं- रीवा और ग्वालियर अंचल में सपाक्स पार्टी ज्यादा मजबूती से लड़ी। प्रदेश में लगभग दो दर्जन से ज्यादा सीटों पर सपाक्स निर्णायक भूमिका में है।

आधा दर्जन सीटें आने का भरोसा

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी बनाने का लक्ष्य लेकर मप्र-छग के चुनावों से बिगुल फूंका। भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उन्होंने माहौल जमाया। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी से हाथ मिलाया। शुरू में सहयोग देने की बात कही, चुनाव आने तक सपा की खिचड़ी में गोंडवाना का काम नमक तक बताया। सभाएं की। घोषणा पत्र जारी किया। बालाघाट, परसवाड़ा में मुंजारे दंपति को टिकट दिया तो राजनगर में नाराज वरिष्ठ कांग्रेस सत्यव्रत चतुर्वेदी के पुत्र नितिन को अपने पाले में किया। पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. सुनीलम को भरोसा है कि 5 से 10 सीटें सपा की मानकर चलिए। कम से कम छह तो मिल ही रही हैं। सुनीलम जो सीटें गिनवाते हैं उनमें निवाड़ी, पृथ्वीपुर, पथरिया, मंडला, बैहर भी शामिल हैं।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
कौन कर्जदार नहीं, लोन इस जमाने की जरूरत किसानों की खुदकुशी पर बोले मंत्री || पीठासीन अधिकारियों ने आधी-अधूरी डायरी और फॉर्म भरकर जमा कर दिए || फोरम के आदेश-राशि वापस करो या जेल जाने को तैयार रहो || बहू को दहेज के लिए सताया, पति सहित तीन फंसे || आठ दिसंबर को लोक अदालत || नवविवाहिता छत से गिरी, मौत || धोखाधड़ी कर वृद्धा के जेवर लेकर फरार हुए आरोपियों की तलाश || टावर पर चढ़कर किसान कर रहे 7 दिनों से प्रदर्शन || एकतरफा प्यार में आशिक ने इंस्टाग्राम पर अपलोड किए युवती के अश्लील फोटो || साहब...बच्चियों का सौतेला पिता ही हैवान बन गया है, इन्हें किसी आश्रम में रखवा दीजिए || पश्चिम : मतदान 70फीसदी पार, हितकारणी स्कूल में कई बार खराब हुई ईव्हीएम || पहले किया मतदान फिर169 बेटिकट यात्रियों को दबोचा || 71.63 % मतदाताओं ने डाले वोट, 8 नए विधायकों का भाग्य ईवीएम में कैद || लोकतंत्र की नींव मजबूत करने युवाओं में दिखा जोश || मतदाताओं ने की 89 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद || 50 घंटे बाद खुली दुकानें,सुरा प्रेमियों ने ली राहत की सांस ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.